CS

Stock Photos

Wednesday, 19 July 2017

Your Voice to me.


मैं

कभी-कभी लोग
मेरा मूल्यांकन
ऐसे करते हैं
जैसे मेरा प्रादुर्भाव
पुरातत्ववेत्ताओं के 
अथक प्रयास के 
फलस्वरूप हुआ है।

Me

I
never felt
myself
more than
a steppny
in your view
but assumed
as BMW
which
doesn't need
a steppny.

महंगे कर दिए तुमने अपने शब्द

आज
तुम्हें कोई पढ़ना चाहता है
लेकिन
तुमने कर दिए महंगे अपने शब्द।
बेरोजगार जीवन में
तुम्हारे शब्द ही तो सस्ते थे
किन्तु आज
महंगाई के आसमान को छूने वाले
टमाटर और प्याज़
जैसे जमीन हो गए
हम कभी निगल नहीं पाए
तुम्हारे पथरीले शब्द
बल्कि
ये तुम्हारे शब्द ही थे
जो हमारा मन खाते थे
किन्तु आज
तुम्हे स्वीकार नहीं हमारा मन
बहुत महंगे हो गए हो
तुम भी।

Monday, 17 July 2017

If_then_series...#2







This is a series of underwent circumstances having visa versa if_then.

Sunday, 16 July 2017

अलविदा

GOOGLE IMAGE


ये आख़िरी शब्द हैं मेरे
क्योंकि अब मैं नहीं मिलूँगी कभी
किसी नुक्कड़, चौराहे,
रास्ते, गली, मोहल्ले, दुकान में,
देश-विदेश, निकास-प्रवेश, धरती-आकाश,
घर-बाहर, ज़िन्दगी-श्मशान में,
अपनों में, गैरों में, यादों के ठौरों में,
खुशी में, ग़मों में, दुआ में, वफ़ा में,
कफ़न में, लिबास में, तल्ख़ियों, ख़राश में,
सुबह के सफर में, रात की बसर में,
सोंधी मिट्टी की महक में, बादलों की गमक में,
गुलज़ार की ग़ज़ल में, किसी जिन्न के अमल में,
पाँव की पाजेब में, बेवफा के फरेब में,
मोबाइल की घण्टियों में भी नहीं,
न किसी सन्देश में, न दर्द के आवेश में,
...................................
मेरा होना एक हक़ीक़त था,
न होना उससे भी बड़ी।
मरती तो मैं रोज़-रोज़ थी
पर आज जियूंगी नहीं,
रूह मेरी तुमसे ही बावस्ता रहेगी,
बस जिस्म से अलग
हल्की हो जाएगी।
तुम्हारी किसी आहट पर
कोई हलचल नहीं होगी,
कहते हो न कि मैं तुम्हें जीने नहीं देती,
अब तुम जियोगे
और मैं तुममें जियूंगी।
सुन रहे हो न तुम!