xz

दर्द हूँ फिर भी दुखता हूँ

आतंक से जन्मा दर्द हूँ मैं,
मेरे गर्भ में छिपी हैं
वहशियत की दास्तानें;
काल के कपाल पर
तांडव करता रहता हूँ
तभी तो उपजती हैं तारीखें
याद है न छः अगस्त का वो मनहूस सा दिन
और नौ अगस्त, भूल गए क्या
...कैसे भूलोगे
मनाई जाती है मेरी बरसी हर साल,
मेरे आग उगलते सीने पर
रख देते हो श्रद्धांजलि के फूल,
क्यों करते हो ये नाटक
जब मुझे रौंदते ही जाना है;
वाह सत्ता-लोलुपों, मौत के सौदागरों
क्यों खेलते हो विनाश का ये खेल,
उगाते हो अपने खेतों में
जैविक हथियारों की फसलें,
भावनाओं को दहनते
रसायनों के जंगल बनाते चले जा रहे,
मन को इतना छोटा कर लिया
कि सीमाओं पर मरने लगे,
घुसपैठिए न आ जाएं कहीं
सियाचिन ग्लेशियर पर चौकसी करने लगे,
न कुछ बन पड़े तो
दूरस्थ देशों से आका आते हैं बंदरबांट करने को;
तुम हथियार भी बनाते हो,
तुम मध्यस्थता भी कराते हो
फिर भी सीमा पर अपना लाल भेजते हो
और चैन से नहीं सो पाते हो;
कब समझोगे और रुकोगे
प्रेम के बीज चुनोगे
हथियारों की फसल लहलहाने से पहले;
समय के पन्ने पलटो महसूसो मुझे
कैसे मेरी छाती फटी थी
जब हिरोशिमा, नागासाकी की धरती हिली थी,
सहम गया था मैं भी
जब लाशों के चीथड़े उड़ रहे थे,
दर्द में कलपते जिस्म
समाने को धरती की छाती चीर रहे थे,
सियासी नग्नता उछल-उछलकर
मनहूसियत की सलामी ले रही थी,
मैं सिसक रहा था,
दहक रहा था
कि ये देखने से अच्छा हो
किसी तोप के मुँह पर बाँध दिया जाऊँ,
दर्द हूँ मैं तो क्या हुआ
फिर भी दुखता हूँ,
तुम तो एक इंसान ही हो,
मत दोहराओ इतिहास,
क्या रखा है मिसाइल में, तोपों में
हथियारों के ज़खीरों में
एक और नागासाकी
एक और हिरोशिमा
और मैं....?

Post a Comment

मेरी पहली पुस्तक

http://www.bookbazooka.com/book-store/badalte-rishto-ka-samikaran-by-roli-abhilasha.php