xz

इस वर्तमान का भविष्य क्या???


देखने में सुडौल, खूबसूरत शरीर के मालिक पेशे से इंजीनयर मौलिक चंद्रा अपने हर काम में निपुण हैं। जितने देखने में सरल मन कहीं उससे अधिक मधुर। एक-एक कर सारी खूबियाँ उनमें समायी थी सिवाय मन की कमजोरी के। सभी के लिए इतना अच्छा सोचते कि स्वयं का ध्यान रखने का मौका नहीं मिलता। ऐसे में अगर कोई कुछ कह देता वो उसी के जैसा सोचने लगते। जब लोगों को ये पता चलता लोग हर तरह से उनका उपयोग करते। उनसे अपने मन की करा लेते। 
उनके एक बहुत अच्छे मित्र को कुछ मजे लेने की सूझी। कुछ पुरानी खुन्नस भी निकालनी थी उन्हें। शाम होते ही ऑफिस आ गए, "यार मौलिक अपने ग्रुप के सभी लोगों की बैंड बज गयी अब तू ही बचा है..."
"सही बोल रहा तू, मुझे पता तुम सबसे मेरी खुशी नहीं देखी जाती।" मौलिक बात काटते हुए बोला।
"मैं ये सब नहीं जानता। तू तो पार्टी से बचना चाह रहा। अब जल्दी से फाइनल कर।" मोहित चहकते हुए बोला।
"नहीं यार वो बात नहीं, मुझपर बहुत जिम्मेवारियां हैं। अभी कुछ वक्त और रुकना चाहता हूँ।"
"अरे पागल है क्या, वो आ जायेगी न तो दोनों मिलकर करना फिर सब ठीक हो जायेगा।"
"तू नहीं समझता आजकल अच्छी लड़की मिलती कहाँ हैं।"
"उसकी टेंशन मत ले तू मैं तो लड़कियों की लाइन लगा दूँगा। मुझे पता है तू इतना डिस्टर्ब क्यों है। देख यार हर लड़की एक जैसी नहीं होती और मैं तो कहता हूँ तूने जल्दबाजी भी बहुत कर दी थी। तूने लिव-इन का ऑफर देकर ही गलती की। तुझे निचोड़कर चली गयी। जाने ही देना था तो ऐसे न जाने देता। साली को देना था कान के नीचे एक। उसकी औकात बताकर भेजता कि तू भी क्या था। अब यहीं अपनी भाभी की फ्रेंड को ही ले। इतनी खूबसूरत है कितने ही लड़कों ने प्रपोज किया पर मजाल है जो किसी से बात कर ले। रिश्ता वहीं करेगी जहाँ घरवालों की मर्जी होगी।"
"हाँ सही कह रहे हो भाई। लड़की को संस्कारी ही होना चाहिए.... अच्छा मैं निकलता हूँ जाना है कहीं। फिर मिलते हैं।"
"हाँ, मैं भी घर जा रहा हूँ।"
मोहित और मौलिक दोनों ही अलग रास्तों पर निकले थे पर दोनों की सोच एक ही थी। मौलिक जहाँ अपने अतीत को भुलाकर नयी शुरुआत करना चाहता था वहीं मोहित दिव्या से उसका रिश्ता कराकर अपने अतीत को जीना चाहता था। 
मोहित के घर पहुँचते ही उसकी पत्नी ने शादी में जाने की बात की। तैयार होते हुए उसने अपनी पत्नी को मौलिक के बारे में बताया कि वो दिव्या और मौलिक का रिश्ता कराना चाहता है। 
"अरे ये क्या कह रहे हो। इतने शालीन, सभ्य मौलिक भाई और वो आवारा लड़की जिसने तुम्हें तक नहीं छोड़ा।"
"हाँ तो मैं कौन सा धर्म का ठेकेदार हूँ। वैसे भी मौलिक को तुम जानती ही कितना हो।"
"फिर भी कम से कम उन्हें इस तरह तो न फँसाओ।"
मोहित ने मौलिक को फोन कर शादी में जाने की बात याद करायी। मौलिक भी झट से तैयार हो गया।
"अब मौलिक को जबरदस्ती क्यों बुलाया? देखो ये गलत कर रहे हो तुम।"
"बस मेरी मर्जी।"
शादी के हाल में मौलिक, मोहित और उसकी पत्नी से मिला। कुछ औपचारिक बातें हुईं। तभी सामने से दिव्या आ गयी।
"इनसे मिलो मौलिक ये हैं हमारे यहाँ की फैशन डिज़ाइनर दिव्या,,, और दिव्या ये हैं इंजीनियर साहब मौलिक।" कहते हुए मोहित ने परिचय कराया।
कुछ देर तक औपचारिक बातें होती रहीं फिर कुछ खिलाने के बहाने दिव्या मौलिक को बाहर तक ले आयी। एकांत पड़ी कुर्सियों पर दोनों बैठ गए। मोहित अपनी पत्नी के गुस्से को नजरअंदाज करता रहा। 
ये एक छोटी सी मुलाक़ात एक सिलसिले का सबक बन गयी। मोहित तो जैसे आमादा था सब कुछ अभी हो जाये। मौलिक प्यार के पन्ने पलटने में व्यस्त था। वही दिव्या इन सब बातों से बेखबर जीवन के मजे ले रही थी। दिव्या की स्वच्छंदता सबसे बड़ी रुकावट थी। मौलिक दिव्या के इस व्यवहार को उसकी जहीनता समझ रहा था। 
"मौलिक इतने स्लो ट्रैक पे क्यों चल रहा?"
"यू मीन?"
"नथिंग"
"कहाँ आज इतनी सुबह..."
"अरे मैं तो नितिन के लिए आया था। एक भाईसाहब आगे वाले मोड़ पर हैं, उनके पास जाना है। तू यहाँ क्या कर रहा चल न मेरे साथ।"
"अरे नहीं, ऑफिस में बहुत काम है।"
"कोई काम नहीं। वापिस आकर कर लेना।"
मोहित मौलिक को जबरदस्ती अपने साथ ले गया। 
दोनों एक तांत्रिक के दरवाजे पर थे। नॉक करते ही उन्हें अंदर बुलाकर बिठाया गया। मौलिक को महसूस हुआ कि मोहित का कोई इम्पोर्टेन्ट काम नहीं था बस बहाने से ले आया। मोहित ने बातों ही बातों में मौलिक की पूरी कहानी सुना डाली। 
"परेशान क्यों होता है तू, तेरी परेशानियां तो चुटकी बजाते जाएंगी।" इतना कहकर उस तांत्रिक ने आंख बंद कर मन्त्र पढ़ने शुरू कर दिए।
"घोर अनर्थ तुझपर बहुत बड़ी विपदा आने वाली है। सही समय पर आ गया तू। ये ले ताबीज पहन  ।" मौलिक की ओर ताबीज बढ़ाते हुए बोला।
"देख मैं तुझसे इसके बदले कुछ भी नहीं ले रहा।" 
"अरे ऐसा कैसे बाबा। ये लीजिये, अब हम आज्ञा चाहते हैं।" मोहित ने बाबा को मुद्रा देकर अनुमति ली। अब मौलिक के दिमाग ने सोचना बंद कर दिया था। उसकी दुनिया दिव्या, मोहित और तांत्रिक तक सिमट कर रह गयी थी। तांत्रिक उसे सफलताओं के सब्ज-बाग दिख रहा था। दिव्या और मोहित का आहार तो वो पहले से ही बना था। जो शख्स इतना पढ़ा-लिखा होने के बावजूद ऐसी हरकत करे तो समाज में वैल्यू कम होना स्वाभाविक था यहाँ तक कि उसके जूनियर भी दूर होने लगे थे।
एक शाम मौलिक उचाट मन से ऑफिस में बैठा हुआ था तभी सामने से दिव्या को आता देख खुश हो गया। 
"मौलिक, ये मैं क्या सुन रही हूँ तुम्हारे बारे में, तुम इतने गिरे हुए इंसान हो। मुझे पाने के लिए उस ढोंगी बाबा का सहारा ले रहे। बस यही संस्कार हैं और तुम्हारी शिक्षा।"
"ये किसने कह दिया तुमसे। तुम्हें गलतफहमी हुई है। मैं किसी बाबा को नहीं जानता।"
"झूठ मत बोलो। मैं उस बाबा का स्टिंग ऑपरेशन करके आ रही हूं।" इतना कहकर एक जोरदार आवाज के साथ पूरे ऑफिस में सन्नाटा पसर गया। मौलिक के गाल पर दिव्या की उंगलियों के निशान छप गए थे। तभी तड़-तड़ की आवाज के साथ आफिस में अंधेरा हो गया। कहीं शार्ट-सर्किट हुआ था। लोगों में अफरा-तफरी मच गई। दिव्या जा चुकी थी। वो बूढ़ा तांत्रिक मौलिक की गिरेबान पकड़कर अपनी आखिरी किश्त मांग रहा था। मौलिक ईश्वर को याद कर अपनी उन अच्छाइयों का वास्ता दे रहा था जो उसने जीवन में कभी की हों। 
तभी मौलिक के कानों में फोन की घण्टी बजी। 
"ज़िन्दगी, तुमने मुझे जगा दिया। थैंक यू सो मच। शायद मौलिक ने बहुत अच्छाइयां की अपने जीवन में कि ये एक स्वप्न ही था इससे ज़्यादा कुछ नहीं।

GOOGLE IMAGE
Post a Comment

मेरी पहली पुस्तक

http://www.bookbazooka.com/book-store/badalte-rishto-ka-samikaran-by-roli-abhilasha.php