xz

हम बड़े क्यों हो गए

 PINTEREST IMAGE.

तुम्हारे आलिंगन में
आज वो अनुभव नहीं रहा,
तुम्हारे अनुभवों में
अब वो मिठास नहीं रही.
पहले तो नहीं आते थे ऐसे
जैसे कि तुम्हारा आना
कोई बहुत बड़ी बात हो.
वो तुम्हारे
छोटे-छोटे गिफ्ट्स
मुट्ठी भर टाफी, चोकलेट्स
और हाँ
खिलौनों में छुपा
तुम्हारा चेहरा.
हर शाम
लौटते वक़्त
लाते थे
हमारे लिए 'चिज्जी'
जिसकी मिठास
अभी तक जिन्दा है.
कितना संबल मिलता था
तुम्हारी बाहों में आकर.
कितनी रिश्वत दे डालते थे
देवी-देवताओं को
मेरे एक बार खांसने पर
यही तो सच है न
पर आज
वही पुराने दिन क्यों नहीं हैं,
आज तुम्हारा आना
ऐसे क्यों लगता है
जैसे
खानापूर्ति हो?
ऐसा क्यों हो गया
'पापा'
उम्र बढ़ने से
रिश्ते छोटे क्यों हो गए,
क्यों सिमट गया
तुम्हारा प्यार
जिम्मेदारियों के बोझ तले
क्यों छिन गया हमसे
हमारा बचपन
पापा
हम बड़े क्यों हो गए?
Post a Comment

स्वीकृति

बदन दर्द से तप रहा है और बुखार है कि उतरने का नाम नहीं ले रहा। उठने से मजबूर हूँ डॉक्टर के यहाँ तक भी नहीं जा सकती। इतनी गर्मी में भी खुद को...