xz

2 अक्टूबर के दिन

क्या होगा इसके अलावा
कि हम प्रतिमाओं पर
माल्यार्पण करेंगे
और नमन करेंगे
उस महान विभूति को;
थोड़ा सा भाषण दिया जाएगा
क्योंकि हम अहिंसा के पुजारी
उस देवदूत का पढ़ाया हुआ पाठ
एडिट कर चुके है,
अहिँसा से अ को
ग़ायब कर चुके हैं।

Post a Comment

स्वीकृति

बदन दर्द से तप रहा है और बुखार है कि उतरने का नाम नहीं ले रहा। उठने से मजबूर हूँ डॉक्टर के यहाँ तक भी नहीं जा सकती। इतनी गर्मी में भी खुद को...